Bahu ki chut maari जेठ ने उतार दी बहु की सारी गर्मी

Bahu ki chut maari पूरे घर में खुशी का माहौल था, हर तरफ चहल-पहल लगी हुई थी और घर के सब लोग बहुत उत्सुक थे । हो भी क्यों न, घर के सबसे छोटे बेटे की शादी तय हुई थी और घर के लोगों को अपनी छोटी बहु का इंतजार था । लेकिन ये कोई नहीं जानता था कि छोटी बहु नगरवधु होने वाली है । Hindi Sex Story कानुपर के ठेकेदार परिवार में छोटी बहु का आना मतलब घर का सबसे बड़ा जश्न और हर कोई इस जश्न में शामिल होना चाहता था ।

शादी तय होने पर छोटी बहु सुमिता की तस्वीर लड़के वालों के पूरे खानदान तक पहुंच गई । रिश्तेदारी में एक जेठ जी थे जो शुरू से ही रंगबाज इंसान थे और घर हो या बाहर, हर तरह का फूल सूंघ कर फेंक चूके थे । घर-परिवार में बदनाम होने की वजह से रिश्तेदार उनके पास कम ही जाते थे लेकिन उम्र में बड़े होने की वजह से सम्मान करना तो बनता ही था । लेकिन जेठ जी में भी एक खूबी थी, औरत को पहचानने की ।

अपने खानदान की औरतों का चयन जेठ जी को ही करने दिया जाता था क्योंकि जेठ जी ने अपनी जवानी में Bahu ki chut maari

Bahu ki chut maari
copyright to ullu

इतनी सारी औरतों के साथ संबंध बनाए थे कि उन्हें हाव-भाव से ही औरत का चरित्र समझ में आ जाता था । छोटी बहु की फोटो देखी तो एकटक देखते ही रह गए । कहने लगे – ये खानदान के बाहर की है क्या ? हमारे खानदान में इतना रसीला माल हो ही नहीं सकता । उनका ऐसा कहना था कि सबने हामी भरी जी, बिल्कुल । छोटा बेटा गुड्डु विलायत से लड़की पसंद करके लाया है ।

अब शादी तय हो गई लेकिन जेठ जी को एक बार छोटी बहु के दर्शन करने थे । शादी हो गई और हनीमून के लिए बेटे – बहु गोवा गए । गोआ पहुंचकर छोटी बहु ने चूड़ी गहने, साड़ी सब उतारकर मॉर्डन लूक ले लिया और फोटोशूट करवाने लगी । पूरे दिन समुंदर और जू चौपाटी घूमने के बाद जब रात को रूम पर आए तो दोनों ने थोड़ी शराब पी ली और उसके बाद होठों से होठों को चूमने और धीरे-धीरे रगड़ने का सिलसिला शुरु हुआ ।

चूमते-चूमते दोनों को पता नहीं चला कि दोनों ने कब एक दूसरे के कपड़े खोल दिए

और एक दूसरे को नंगा कर दिया । होंठों से बात गले और कान तक पहुंची । दोनों एक दूसरे को चाट रहे थे, छोटी बहु तो काट रही थी और धीरे धीरे बात और गरम होने लगी जब छोटे बेटे ने सुमिता के चूचे चूसने शुरु कर दिए । एक बार चूचों को चूसना क्या शुरु किया, निप्पलों को जैसे लाल कर दिया । सुमिता का पति निप्पलों को ऐसे चूस रहा था मानों आम चूस रहा हो और बीच बीच में जब दांत लगते तो

आ…..आ……आउच की आवाज़ सुमिता के मुंह से निकल जाती । अब सुमिता ने अपने चूचों को दबाना शुरु कर दिया और लंड को पकड़कर चूचों के बीच में रखकर मसलने लगी । चूचों से लंड का मसलना सुमिता को चरमसुख का वो मजा दे रहा था जो उसने पहले कभी महसूस नहीं किया था ।

धीरे-धीरे सुमिता ने लंड से अपनी चूत की मसलना शुरू कर दिया और जब चूत थोड़ी थोड़ी चूत गीली होने

Bahu ki chut maari
copyright to ullu

लगी तो उसने अपने पति से कहा कि – आप लेट जाओ, मैं लंड की सवारी करना चाहती हूं और पति सीधा लेट गया । सुमिता पति के लंड पर अपनी गीली चूत लेकर बैठ गई और अपने चूचों को दबाते हुए लंड पर उछलने लगी । यकीन मानिए सुमिता से ज्यादा मजा पति को आ रहा था क्योंकि वो लेटे-लेट सुमित के तजुरबे का मजा ले रहा था ।

उछलते उछलते आई माँ…….आ…..आ……ओ……….आह……की आवाज़ आ रही थी इसलिए पति ने सुमिता को आगे की तरफ झुका दिया और उसके होठों पर अपने गरम होंठ रख दिए । अब सुमिता का पति लेटे-लेटे ऊपर की तरफ झटके दे रहा था और दूसरी तरफ सुमिता के होठों को अपने होठों से अलग ही नहीं कर रहा था । सुमिता को वो मजा आ रहा था जैसा उसने सोचा था । अब हनीमून खत्म हुआ और दोनों घर आ गए । घर आने के बाद एक दिन छोड़कर एक दिन सुमिता पति से सुबह और रात को चुदाई करवाती थी, कुछ महिने बीत जाने के बाद सुमिता का पति बोर हो गया और अब उनके बीच में सैक्स खत्म हो गया ।

लेकिन सुमिता की प्यास अभी अधूरी थी और सुमिता अब उदास रहने लगी थी । वो रोज़ कुछ न कुछ ऐसा काम करती थी जिससे उसका पति उसे चोद सके लेकिन अब उसकी हर कोशिश बेकार हो रही थी । वो कोशिशें कर करके थक गई थी । एक दिन घर पर मेहमान आए हुए थे जिसमें घर के जेठ जी भी थे । जेठ जी ने झेड़ने के लिए कहा – इस घर में मेहमान को चाय भी नहीं पूछते क्या ?

सुमिता की सास ने कहा – नहीं, ऐसी कोई बात नहीं है तो जेठ जी बोले –

भई चाय तो हम अपनी नयी बहुरानी के हाथों से बनी हुई पीएंगे । बहु चाय लेकर आई तो जेठ ने उसकी ओर देखा तो उसे कुछ अलग महूसस हुआ । सुमिता चाय देकर ऊपर चली गई और थोड़ी देर के बाद जेठ जी भी बहाने से ऊपर की ओर गए और छोटी बहु सुमिता के दरवाजे तक चले गए । उन्हे लगा कि शायद सुमिता परेशान थी, इसलिए वो उससे बात करना चाहते थे ।

Bahu ki chut maari
copyright to ullu

लेकिन जब वो दरवाजे तक पहुंचे तो वो हैरान हो गए । सुमिता खीरे को अपनी चूत में देकर मजा ले रही थी और मछली की तरह तड़प रही थी । जेठ जी की तो जैसे लॉटरी निकल गई उन्होने फौरन कैमरा निकाला और वीडियो बना ली । अब जेठ जी सीधे कमरे में घुस गए तो सुमिता चौंक पड़ी, आपको तमीज नहीं है क्या, ऐसे कैसे कमरे में घुस आए । जेठ जी ने फौरन वीडियो सुमिता को दिखा दी, सुमिता डर के मारे चुप हो गई । उसने पूछा – क्या चाहते हैं आप ?

Click kare aur yeh bhi padhai : Sarita aunty ki chudai

जेठ जी ने जवाब दिया – मेरे गरम लंड को तेरी चूत की जरूरत है, अगर तू मेरे लंड को ठंडा कर सकती है Bahu ki chut maari

Bahu ki chut maari
copyright to ullu

तो ये वीडियो कभी वायरल नहीं होगी । ऐसा नहीं था कि सुमिता को चूत नहीं मरवानी थी लेकिन वो सिर्फ चूत के लिए एक जवान लंड ढूंढ रही थी लेकिन अब क्या करती । जेठ जी ने उसे कुछ दिनों बाद अपने घर पर बुलाया और सुमिता को पहले थोड़ी शराब पीला दी । शराब पीने के थोड़ी देर बात जेठ जी ने सुमिता का ब्लाउज और साड़ी उतार दी । अब सुमिता ऊपर से नंगी और नीचे से पेटीकोट के साथ खड़ी थी, जेठ जी ने धीरे-धीरे सुमिता के बदन को चूमते हुए उसका पेटीकोट भी खोल दिया ।

अब जेठ जी सोफे पर लंड खड़ा करके बैठ गए और सुमिता से कहा – लंड पर बैठ जा और जितना उछलना है उछल, जितनी गर्मी है सब दिखा दे । सुमिता भी हवस की आग में इस तरह कूद चूकी थी वो भी लंड पर बैठकर उछलने लगी ओर साथ ही साथ वो जेठ जी….आ….आ….जेठ जी मत करो कहते-कहते चूद रही थी ।

Bahu ki chut maari
copyright to ullu

जेठ जी बहुत पुराने चावल थे, वो अच्छी तरह जानते थे कि अगर एक बार मौका हाथ से निकल जाए तो दोबारा नहीं आता । इसलिए उन्होने सुमिता को कमर से उठया और अपनी गोदी में उठा लिया और चूत के अंदर लंड डालकर झटके देने लगे । सुमिता को दर्द तो बहुत हो रहा था लेकिन वो दर्द उस मजे से बड़ा नहीं था जो सुमिता उस वक्त जेठ जी महूसस करवा रहे थे । Bahu ki chut maari