free short stories

2
free short stories
free short stories

पति-पत्नी और पड़ोसी

free short stories पति और पत्नी का रिश्ता बहुत नाज़ुक होता है और अगर इनके बीच में कोई तीसरा आ जाए तो ये रिश्ता बिगड़ जाता है लेकिन क्या हो अगर पति और पत्नी जानबूझकर अपने बीच में किसी तीसरे को आने दें । कहानी सच्ची है और पिछले साल यानि 2021 की है । उत्तरप्रदेश के नोएडा में नए शादीशुदा पति-पत्नी पिछले 1 साल से एक फ्लैट में रह रहे थे । लेकिन रोज़ उनके घर कोई न कोई आदमी और औरत आता था ।

बिल्डिंग को लोगों को ये सब अजीब तो लगता था लेकिन कोई कुछ बोलता नहीं था क्योंकि बातचीत करने में पति-पत्नी दोनों अच्छे थे ।

पड़ोस में किसी ने पूछा तो उन्होंने कह दिया कि – ऑफिस के दोस्त काम के लिए या रिश्तेदार हैं जो मिलने चले आते हैं । लेकिन सच है जो झुपाए नहीं झुपता । मनोज और रिया, दोनों ही नए ज़माने के मॉर्डन जोड़े थे लेकिन वो इतने मॉडर्न होंगे की सारी हदें पार हो जाएंगी, ये तो किसी ने नहीं सोचा था ।

free short stories एक दिन सुबह के 9 बजे उनके पड़ोस की सुशीला आंटी थोड़ी चीनी लेने उनके फ्लैट पर पहुंची तो देखा कि दरवाज़ा खुला हुआ है ।

सुशीला आंटी ने आवाज़ लगाई – मनोज……..रिया….कोई है …अरे…तुम्हारा दरवाज़ा खुला हुआ है…कोई सुन रहा है । ऐसा कहकर वो वापस चली गई और आधे घंटे बाद जब बाहर किसी काम से आई तो देखा दरवाज़ा अब भी खुला हुआ था और उसी हालत में था । न चाहते हुए भी सुशीला अंदर चली गई और देखा एक कमरे के बिस्तर पर रिया और एक अनजाना पुरूष नग्न अवस्था में सोए हुए थे वहीं दूसरी तरफ मनोज के साथ कोई अनजान लड़की नग्न अवस्था में थी । सुशीला आंटी के पैरों तले ज़मीन खिसक गई और उन्हें कुछ समझ नहीं आया।

Also Read :- Mastram kahani

एक ही घर में पति-पत्नी के साथ गैर आदमी और औरत बिस्तर पर पड़े हुए थे, वो भी कपड़ों के बिना ।

ये बात पूरे मुहल्ले में आग की तरह फैल गई । लोगों ने तरह-तरह की बातें बनाना शुरू किया लेकिन सवाल ये था कि अगर मनोज और रिया के बिस्तर पर दो अनजान लोग कौन थे और ये सब माजरा क्या है ?

free short stories दरअसल शादी के कुछ ही दिनों बाद रिया को ये पता चल चुका था कि मनोज उसे उस सुख का अहसास नहीं करा सकता जिसके लिए औरत शादी के बाद तरसती है, रही बात औलाद के सुख की तो मनोज वहाँ भी फेल हो गया था । ऐसा नहीं है कि पति और पत्नी ने कोशिश नहीं की या किसी तरह का कोई इलाज नहीं कराया लेकिन इसे ठीक होने या कुछ असर होने में वक्त तो लगता ही है । लेकिन मनोज और रिया कि तड़प ऐसी थी कि वो दोनों ही एक दूसरे को रोक नहीं पा रहे थे, रात की गर्म ओट उन दोनों के अंदर बेचैनी को बढ़ा देती थी । जैसी-जैसे रात जवान होती, मनोज और रिया गरम होने शुरु होते और उनके अंदर उठने वाला लावा ज्वालामुखी बन जाता ।

दोनों एक-दूसरे के साथ हमबिस्तर तो हो जाते लेकिन कुछ ही सेकेंड में सारा जोश नीचे उतर आता ।

दोनों अपने आपको अधूरा महसूस करने लगे थे । उनकी ज़िंदगी से जवानी का हर रस जा रहा था, रंग फीके पड़ रहे थे । तभी मनोज के दिमाग में ये आइडिया आया और दोनों के अंदर तड़पन का ऐसा आलम था कि रिया ने कभी भी इस आइडिया को गलत नहीं समझा । मनोज ने फौरन शहर की सबसे महंगी एस्कॉर्ट कंपनी को फोन किया और अपने और रिया के लिए एक साथी का इंतज़ाम करवाया । पहली रात तो दोनों को हिचकिचाहट हुई लेकिन ये हिचकिचाहट उनके अंदर की उस तड़प के नीचे दब गई जो अब ज्वालामुखी बन चुकी थी । दोनों इस ज्वालामुखी में जलने को बेताब थे और सुख की हर ऊंचाई को महसूस करना चाहते थे ।

free short stories दोनों की हर रात रंगीन होने लगी, दोनों खुश रहने लगे, दोनों के बीच प्यार और समझदारी बेहतर होने लगी ।

लेकिन मनोज और रिया ये नहीं जानते थे कि समाज की नज़र में ये एक जुर्म है और समाज इसे बहुत गलत नज़रिए से देखेगा । लेकिन इसकी चिंता किसे थी, मनोज और रिया अब इतना खुल चुके थे कि किसी के भी साथ सोने को वो तैयार थे । धीरे-धीरे मनोज और रिया अपनी आग बुझाने के लिए रोज़ नया साथी ले आते थे और इसी तरह उनकी तन्हा रातें कट रही थी । अब ये बात मुहल्ले के लोगों तक पहुंच गई थी और अब सभी मनोज और रिया को गलत नज़र से ही देख रहे थे । लोगों को लगा कि ये सब अब नहीं होगा लेकिन ये कहाँ रूकने वाला था।

मनोज और रिया उस समंदर में उतर चुके थे जहां से वापस आने का कोई रास्ता अब खुला नहीं था ।

दोनों बहुत समझदारी से काम ले रहे थे और इसीलिए अब दोनों के घर से किसी तरह की कोई आवाज़ या कोई हरकत महसूस नहीं होती थी । लेकिन पति पत्नी के बीच में संबंध जुड़े रखने की एक ही वजह थी, दोनों साथ में पहले ही इतना खेल लेते थे कि अब दोनों एक दूसरे से संतुष्ठ होने लगे थे ।

दोनों के बीच वो विश्वास जो कहीं खो गया था अब वापस आने लगा । दोनों एक दूसरे को पहले से बेहतर समझने लगे और साथ ही साथ ये भी कि दोनों की ज़रूरतें क्या हैं और इसी का ध्यान रखते हुए अब दोनों एक दूसरे के साथ मस्ती भरे पल महसूस करने लगे और दोनों की ज़िंदगी में वो रस, वो रंग लौट आए जो पहले कहीं खो गए थे । 

2 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें