Khasi Balgum Ka Gharelu Nushka

1
Khasi Balgum Ka Gharelu Nushka
Khasi Balgum Ka Gharelu Nushka

Khasi Balgum Ka Gharelu Nushka खांसी, बलगम और गले का आयुर्वेदिक इलाज दोस्तों, आयुर्वेद तीन सूत्रों पर टिका हुआ है – वात, कफ, पित्त । आयुर्वेद कहता है कि जिस मनुष्य का शरीर इन तीन रोगों से मुक्त है, वह पूरी तरह स्वस्थ है । लेकिन आज के समय में ये बहुत मुश्किल हो गया है क्योंकि आज बेकार जीवन शैली के साथ-साथ हवा, पानी और भोजन भी प्रदूषित है । पानी और भोजन में केमिकल हैं तो हवा वैसे ही प्रदूषित हो गयी है और ऐसे में स्वस्थ बने रहना एक चुनौती है. लेकिन आज भी आयुर्वेद अकेली ऐसी चिकित्सा पद्धति है जो हर तरह के रोग, व्याधियों से मनुष्य की रक्षा करता है । इसी तरह आज लोगों को खांसी, बलगम और गले से संबंधित कई तरह की बीमारियां हो रही हैं,

Khasi Balgum Ka Gharelu Nushka आइए जानते हैं इसके कारण, लक्षण और इसका आयुर्वेदिक उपचार ।

क्या है कारण ?

  • वायु प्रदूषण
  • सिगरेट, तंबाकू, गुटखे का सेवन
  • एलर्जी
  • गलत खानपान
  • ठंडे पानी का ज़्यादा सेवन
  • संक्रमण

गले की समस्या के क्या हैं लक्षण ?

  • गले में हमेशा खराश रहना
  • गले से काला, पीला बलगम आना
  • बोलने में खराश महसूस होना
  • गले में सुई जैसी चुभन महसूस होना
  • गले में लंबे समय तक दर्द बने रहना
  • बार-बार सर्दी-जुकाम हो जाना 

दोस्तों, कहने को ये समस्या बहुत आम लगती है,

लेकिन जो लोग इसे रोज़ झेलते हैं, उनके लिए ये असहनीय हो जाता है । एक तरफ 24 घंटे गले में दर्द और दूसरी और खराश बने रहना । इसका जड़ से इलाज आयुर्वेद के अलावा किसी के पास नहीं है और आप कुछ आसान घरेलू नुस्खे अपनाकर इस समस्या से हमेशा के लिए छुटकारा पा सकते हैं,

तो चलिए नुस्खों की ओर चलते हैं –

1. अदरक और शहद का मिक्सचर – आप रोज़ दिन में दो बार कभी भी शहद में अदरक को थोड़ा जलाकर और फिर उसे शहद में डुबोकर मुंह में रख लीजिए और हल्के-हल्के दांतों से चबाकर उसका और शहद का रस लीजिए । आपके गले में जितनी खराश है, सब बाहर आ जाएगी ।

2. अदरक और गुड़ का सेवन – यदि आपको बार-बार खांसी और बलगम की समस्या होती है तो आप गुड़ के साथ रोज़ाना अदरक खा सकते हैं । इससे सर्दी-जुकाम भी ठीक हो जाता है । आपको करना ये है कि अदरक को चूल्हे में थोड़ा गर्म करना है और फिर थोड़ा घिस लेना है और उसके बाद गुड़ को थोड़ा मुलायम करके अदरक में मिला देना है । आप इसे जैसे ही खाएंगे, आपकी खांसी तुरंत बंद हो जाएगी ।

3. प्याज़ और नींबू का रस – अगर दिनभर आपके मुंह से बलगम निकलता है या आपकी छाती में बलगम जमा रहता है तो प्याज़ और नींबू का रस आपकी बहुत मदद करेगा । सबसे पहले प्याज़ को छीलकर पीस लें, अब इसमें नींबू का रस मिलाएं और इसे उबालकर रख लें । थोड़ी देर बार जब ये ठंडा हो जाए तो इसमें शहद डालकर इसे चाटें या पी लें । आपके शरीर में जितना बलगम जमा है, सब बाहर आने लगेगा ।

4. काली मिर्च के साथ शहद – ये बहुत पुराना और बहुत सफल आयुर्वेदिक नुस्खा है । हर कोई इस नुस्खे को अपना चुका है । काली मिर्च में एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं, जिससे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है । काली मिर्च को पीसकर कटोरे में डालें और ऊपर से एक चम्मच शहद डाल लें । इसे मिलाएं और फिर ऊंगली से चाटें । आपका गला और आपकी छाती में हो रही खराश दूर हो जाएगी और अगर गला दर्द कर रहा है तो उसे भी भारी आराम मिलेगा ।

5. कच्ची हल्दी का सेवन – हल्दी बहुत गर्म पदार्थ है और इसलिए सर्दी-जुकाम, गले की समस्याओं के लिए हल्दी उपचार के रूप में चुना जाता है । हल्दी एक एंटी बैक्टीरियल  पदार्थ है जो शरीर के हर रोग की दवा है । इसलिए गले में दर्द, खराश, बलगम को ठीक करने के लिए हल्दी उत्तम है । रोज़ रात को दूध में कच्ची हल्दी मिलाकर पीएं, आराम होगा ।

6. गुनगुने पानी में नमक के गरारे – दोस्तों, गले में किसी भी प्रकार की समस्या हो, उसे साफ करने का सबसे बढ़िया उपाय है – नमक के गरारे । हर तरह का सख्त काला बलगम और कफ जड़ समेत बाहर आ जाएगा । सुबह और शाम खाली पेट गुनगुने पानी में नमक डालकर गरारे करने हैं, आपके गले से संबंधित सारी समस्याओं का निवारण हो जाएगा ।

दोस्तों, आपको लेख कैसा लगा, हमें कमेंट में बताएं ताकि हम विषयों को और बेहतर तरीके से आपके सामने लेकर आएं ।

1 टिप्पणी

  1. […] Pet Kaise Saaf Karen दोस्तों, पेट का साफ न होना आज पूरी दुनिया के लोगों के लिए सिरदर्दी बना हुआ है । एक सर्वे की मानें तो इस दुनिया में हर तीसरा इंसान पेट की किसी न किसी बीमारी से पीड़ित है और सबकी शुरूआत पेट साफ न होने से ही होती है । पेट साफ न होने से गैस, आलस, थकान और कमज़ोरी बनी रहती है । इसके अलावा लोगों के बीच जाने और उनका सामना करने के लिए आत्मविश्वास भी नहीं आता । […]

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें