नौकरी और शालिनि मैडम ( Office sex stories )

नौकरी और शालिनि मैडम ( Office sex stories )

मैं सुजित शर्मा, पेशे से एक सॉफ्टवेयर इंजिनियर हूं । एक कंपनी में लगातार 2 साल काम करने के बाद मैं बोर हो गया था ।

अब मैं एक नईं कंपनी और अपने लिए एक शानदार सैलरी के चक्कर में था ।

इंटरनेट से पता चला कि गुड़गाँव की एक कंपनी में सॉफ्टवेयर इंजीनियर की ज़रूरत है और वो भी 1 महिने के अंदर ।

सैलरी पहले से दोगुना थी इसलिए मैनें कुछ सोचा नहीं, सीधे कंपनी से इस्तीफा दे दिया और उस कंपनी में अप्लाई कर दिया ।

कंपनी जितना अनुभव मांग रही थी मेरा उससे ज्यादा था और मेरी पढ़ाई भी मेरा एक प्लस पॉइंट थी । खैर, कंपनी से कॉल आया और मैं इंटरव्यू देने चला गया । कंपनी ने मुझे परखने के लिए एक के बाद एक पांच इंटरव्यू लिए । Office sex stories

आखिरी राउंड के लिए कहा गया कि ये राउंड फाइनल है और आपक इंटरव्यू कंपनी की मालकिन शालिनि मैडम लेगी । मैं तैयार था और अंदर विश्वास भी था । तभी कमरे में एक बला की खूबसूरत औरत ने कदम रखा, कहा – हाय, मैं शालिन । उन्हें देखकर मानो मैं देखता ही रह गया ।

आखें बड़ी-बड़ी, होठ लाल-लाल, कोट पहना हुआ था लेकिन चमड़ी एकदम गोरी । गर्दन इतनी गोरी की चूमने को मन कर जाए ।

चूचे ऐसे लग रहे थे मानों बाहर ही आ जाएंगे और टाँगे, जांघ और गांड चर्बी से भरी हुई । मन किया दरवाज़ा बंद करुं और यही टेबल पर लिटाकर चूमने लग जाउँ ।

Copyright given celebsnext

उन्होंने फिर कहा – हाय, सुजित, मैं शालिनि ।

मैं इमेजिनेशन से बाहर आया और मैनें कहा – हैलो मैम । उन्होंने कहा – कॉन्गरेचुलेशन सुजित, यू आर सलेक्टिड । मैं खुश हुआ और मैमे से हाथ मिलाया । मनचाही नौकरी और मनचाही तनख्वाह मिल जाए तो दोगुनी खुशी होती है ।

मैं रात में लेटे-लेटे अपना फोन चला रहा था, तभी मुझे शालिनि मैम का जिस्म याद आ गया । ऐसा बदन सिर्फ किसी होरोइन का ही हो सकता है, मैनें उन्हें फेसबुक, इंस्टाग्राम पर फौलो करना शुरु कर दिया । उनका इंस्टाग्राम अकाउंट पब्लिक था इसलिए मैं उनकी फोटो देखने लगा ।

फोटो देखते-देखते उनकी जिम की फोटो देखी तो मेरा लंड खड़ा हो गया । शालिनि मैम इतनी हॉट लग रही थी कि क्या कहूं । उनके चूचे और उनकी गांड इतनी बाहर थी कि बस लंड डालो और तपा-तप शुरु हो जाओ । मैनें शालिनि मैडम की और दूसरी फोटो देखी और लंड मसलने लगा ।

धीरे-धीरे मैं मुठ मारने लगा, शालिनि मैडम मेरे दिलो-दिमाग पर हावी हो चुकी थी और मुझे अब उनके नाम की मुठ्ठी मारनी ही थी । मैं अभी तक सिर्फ उन्हें देख रहा था लेकिन अब मेरे अंदर उनकी चुत मारने की तलब जाग चुकी थी । मुझे किसी भी हालत में उनकी चुत मारनी थी चाहे उसके लिए कुछ भी करना पड़े । Office sex stories

अब मैं नौकरी पर जा रहा था और रोज़ मुझे शालिनि मैडम से मिलने और उन्हें देखने का मौका मिलता था । वो रोज़ मुझे उकसाती थी और उनकी आवाज़ इनती नशीली थी कि कईं बार मैनें फोन मीटिंग में सिर्फ उनकी आवाज़ सुनकर मुठ्ठ मारी थी । Office sex stories

एक दिन शालिनि मैडम के लैपटॉप में कुछ गड़बड़ आ गई उन्होंने मुझे अपने कैबिन में बुलवाया । मैं कैबिन गया, शालिनि मैम ने काली स्कर्ट पहनी हुई थी,

उनकी जांघे देखकर मैं खो गया, मुझे हमेशा लगता है कि शालिनि मैन की चुत बिल्कुल उनके होठों की तरह होगी, एकदम गुलाबी और गुलाबी चूत को चूसने और गुलाभी चूत मारने का मज़ा अलग ही है ।

मैंने उनकी लैपटॉप की दिक्कत ठीक कर दी लेकिन आज मेरी नज़र उनसे हट नहीं रही थी और अब शालिनि मैम को भी यह पता चल रहा था । मैं जिस तरह उनके जिस्म को देख रहा था,

उन्हें मेरी आंखों में हवस दिख रही थी । अब रोज़ जब मैं घर आता और शालिनि मैडम के नाम की मुठ्ठ मारता ।

एक दिन ऑफिस में पार्टी थी जिसमें सबको बीयर और शराब दी जा रही थी, शालिनि मैम कंपनी के बड़े-बड़े लोगों के साथ कमरे में बैठी थी और बाकी एम्पलॉई अलग पार्टी कर रहे थे । टाइम बीतता गया और शाम से रात हो गई, अब तक सब नशे में चूर हो चुके थे ।

लेकिन मैनें ज़्यादा नहीं पी थी । कुछ लोग घर जा चुके थे और कुछ जा रहे थे । मैं भी उठकर बैग पैक करके घर जा ही रहा था कि कमरे से गिलास के गिरने की आवाज़ आई । मैं कमरे में दाखिल हुआ तो देखा कि शालिनि मैडम गुस्से से लाल हो रही थी और गिलास इधर-उधर फेंक रही थी ।

मैनें कहा – आपको कोई परेशानी है तो वह सीट से उठी और ज़मीन पर गिर गई । उन्हें होश नहीं था वह पूरी तरह नशे में धूत थी ।

मैने उन्हें उठाया और नीचे खड़ी उनकी गाड़ी में ड्राईवर की मदद से उन्हें पीछे की सीट पर लेटा दिया । फिर मैं खुद ड्राईवर के साथ आगे बैठकर मैडम के घर गया ।

Copyright given celebsnext

मैडम का घर एक आलीशान बंगला था जहां स्वीमिंग पूल और सारी आधुनिक चीजें थी । मैं मैडम को घर ले आया और उन्हें बिस्तर पर लेटा दिया ।

अब ड्राईवर भी साथ नहीं था लेकिन मैं इतने नशे में थी कि उन्हें होश ही नहीं था । मैनें दिमाग लगाया और मैडम के बाथरूम में गया ।

वहां पानी से भरा बाथटप था । मैडम के साथ कुछ कर तो नहीं सकता था लेकिन कम से कम एक इच्छा तो पूरी हो ही सकती थी । इससे पहले की मैं घर जाता मैं मैडम को उनके बाथरूम में ले गया और एक-एक करके उनके कपड़े उतारने लगा ।

ताकि मैडम को जब होश आए तो उन्हें लगे कि शराब  के नशे में जब वो घर आई थी तो खुद ही कपड़े उतारकर इस बाथटप में आ गई । मैनें मैडम का टॉप खोल दिया ।

टॉप के अंदर मैडम ने लाल ब्रा पहनी हुई थी और ब्रा जैसे फटने को थी । मैनें ब्रा का हुक पीछे से खोल दिया और मैडम के चूचों को ह्लका सा दबाया ।

मैम नशे में थी लेकिन उन्हें मज़ा आ रहा था । ब्रा खुलते ही मैडम के चूचे देखने का मेरा सपना सच हो गया । मैडम के चूचे गोरे और गोलाकार थे जैसे किसी ने हाथ से बनाए हो ।

अब मैनें मैडम की स्कर्ट उतार दी स्कर्ट उतारकर देखा तो मैडम ने काली पैंटी पहनी हुई थी । मुझसे रहा नहीं गया, मैनें फौरन पैंटी भी उतार दी और मैडम की चूत देखी ।

मैं दंग रह गया, मैंने जैसा सोचा था बिल्कुल वैसा ही – शालिनि मैडम की चूत एकदम गुलाबी और रसभरी थी ।

मन कर रहा था कि अभी जीब देकर चाट लो और सारा रस निकाल दूं, तो मैनें खुद को रोका लेकिन रोका नहीं गया ।

मैनें फौरन लंड निकाला और मैडम की चुत में डाल दिया । मैडम को होश नहीं थी लेकिन मैं दिए जा रहे झटकों को महसूस कर रहा था ।

हर झटका मुझे जननत की सैर करवा रहा था क्योंकि जिसकी चूत मारना चाहते हो, अगर उसकी मिल जाए तो अलग मज़ा आता है ।

मैनें मैडम को उठाया और उन्हें पानी से भरे बाथटम में डाल दिया । उसके बाद चुपचाप वहाँ से रफूचक्कर हो गया ।

अगले दिन जब मैडम को होश आया होगा, तब तक बहुत देर हो चुकी थी । क्योंकि वीकेंड आ गया था और इससे पहले की मैडम कुछ समझती मैं मेरा काम कर चुका था ।

Also read : शिखा भाभी की जवानी (Shikha bhabhi sex stories)