Padosan ki kari chudai

(Padosan ki kari chudai) पड़ोसन की घर पर चुदाई

(Padosan ki kari chudai) मेरा नाम रोहित सांगवान है, मैं हरियाणा के सोनिपत का रहने वाला हूं । मैनें इंजीनियरिंग की हुई है और इसी वजह से मुझे गुड़गांव में एक विदेशी कंपनी में नौकरी मिली है । वैसे मैंने यहीं गुड़गांव में एक कमरा किराए पर लिया हुआ है और मैं सोमवार से शुक्रवार यहीं रहता हूं । शुक्रवार शाम को सीधे ऑफिस से सोनिपत के लिए निकल जाता हूं और फिर शनिवार और रविवार घरवालों के साथ ही बिताता हूं ।

मेरे पिताजी किसान हैं और हमारी गांव में बहुत खेती-बाड़ी है ।

पिताजी नहीं चाहते थे कि मैं भी किसान बनूं इसलिए उन्होनें मुझे चाचाजी के पास फरीदाबाद भेज दिया था और मेरा स्कूल-कॉलेज सब वहीं हुआ । लेकिन पढ़ाई पूरी करने के बाद से मैं मम्मी-पापा के साथ ही रहता हूं और अब नौकरी लगने की वजह से मैं गुड़गांव ही रहता हूं और बाकि दो दिन घर पर बिताता हूं । अबकी बार जब घर गया तो देखा हमारे साथ वाली खाली पड़ी ज़मीन पर मकान बनना शुरु हो गया है और एक सरकारी गाड़ी खड़ी है ।

  • मैनें पापा से पूछा – मकान बन रहा है या कुछ और ?
  • पापा – नहीं, मकान ही बना रहे हैं ।
  • मैनें कहा – कौन बनवा रहा है ?
  • पापा – दिल्ली से कोई आए हैं, आईएएस अफसर हैं । रिटायर होने के बाद अब यहीं मकान बनाकर रहेंगे । 

मैनें ज्यादा ध्यान नहीं दिया और बात भूल गया ।

मैं वापस गुड़गांव आ गया और ऑफिस में काम करने लगा । अब दिसंबर का महीना आ गया था और दिसंबर आते ही चुदाई की प्यास बढ़ जाती है और हवस को बुझाने के लिए मुठ मारने के अलावा कोई और तरीका नहीं होता । मैं बहुत दिनों से कोई गलफ्रेंड बनाना चाहता था ताकि रातों की प्यास बुझाने का सामान मुझे मिल सके और मैं अपने जिस्म की सुलगती आग को ठंडा कर सकूं ।मैं ऑफिस में लड़कियों के पास रहने की हर कोशिश करता हूं लेकिन सब लड़कियों को किसी न किसी लड़के ने फंसा रखा है ।

इसके अलावा कई के पास दो या तीन भी हैं ।

लड़कियों के पास कभी भी लड़कों की कमी नहीं होती । मेरी यही कोशिश होती कि किसी तरह किसी एक को पटा लूं और फिर अगर एक बार बात शुरू हो गई तो घुमाते-फिराते हुए एक दिन में मैं उसे अपने रूम में ले आता हूं और दारू पार्टी के बाद जी भर के चुदाई करता हूं । उस वक्त तक मैं लड़की को इस कदर पागल कर देता हूं कि वो मेरे लंड पर बैठने के लिए बेताब हो जाती है और उसे मेरे लंड की सवारी किसी भी हालत में करनी होती है ।

लेकिन ऑफिस में फिलहाल ऐसी कोई लड़की नहीं थी जो मेरे चुंगुल में फंसे,

सबको ऑफिस के लड़कों ने ही पटा कर रखा हुआ था और ऑफिस खत्म होने के बाद सब कहीं न कहीं चले जाते थे और रात भर लड़कियों कि चूत मारते थे । लड़कियों को भी खर्चे से मतलब था, उन्हें भी पूरी तरह चुदाई करवाने में बहुत मज़ा आता था और अब ये उनके लिए कोई बहुत बड़ी बात नहीं थी । दिसंबर का ठंडभरा महिना शुरु हो गया था और ऑफिस के लोग अपनी प्यास दारू और लड़कियों को चोद कर बुझा रहे थे ।

ऑफिस में एक से बढ़कर माल लड़की थी,

किसी के चुच्चे कसे और भारी थे तो किसी की गांड एकदम टाइट । कईं बार तो मैनें ऑफिस के अंदर साथियों को चुदाई करते हुए देखा है और ये सब देखकर मेरे अंदर चुदाई की प्यास बढ़ जाती लेकिन क्या करता । घर आकर अकेले में ऑफिस की लड़कियों को सोचकर मुठ मार लेता । शुक्रवार आ गया और आज मैंने ऑफिस की छुट्टी ले रखी थी इसलिए सुबह होते ही मैं घर के लिए चल निकला ।

जैसे ही घर पहुंचा देखा पड़ोस वाली ज़मीन पर बनने वाला मकान काफी हद तक बन चुका था,

  • मैनें पापा को प्रणाम करके पूछा – अरे अभी महिने भर पहले तो यहाँ काम शुरु हुआ, इतनी जल्दी बिल्डिंग भी खड़ी कर दी । लगता है काम बहुत तेजी से हो रहा है । 
  • पापा ने कहा – हां, ये लोग जल्दी शिफ्ट होना चाहते हैं 
  • मैनें कहा – अच्छी बात है । तभी मैंने देखा कि एक गाड़ी आकर रूकती है, उसमें से एक अंकल, आंटी निकलते हैं और उसके बाद निकलती है एक जवान और हसीन खूबसूरत लड़की ।

उसे मैं देखता ही रह गया । (Padosan ki kari chudai)

उसने टी शर्ट पहनी हुई थी और नीचे छोटी सी स्कर्ट । उसकी टांगे और जांघे इतनी गोरी और भरी हुई थी कि मैं उसकी टांगों को ही देखता रह गया । तभी मैनें देखा कि वो तीनों मेरे और पापा के पास आ रहे हैं । मैनें फौरन नज़र इधर-उधर की और वो आकर हमसे बोले – ये आपका घर है ?

  • पापा ने जवाब दिया – जी, मेरा नाम सुभाष सांगवान है ।
  • उन्होनें अपने बारे में बताया – नमस्ते जी, मेरा नाम विनय माथुर है, ये मेरी पत्नी और वो बेटी है । हम लोग यहाँ मकान बनवा रहे हैं ।
  • पापा ने कहा – जी, आप अंदर क्यों नहीं आते, आइए । 
  • उन्होंने कहा – अरे नहीं, इसकी कोई ज़रूरत नहीं है, हम ठीक हैं । 
  • लेकिन पापा ने जबरदस्ती कहा – नहीं ऐसी कोई बात नहीं है आप आइए । 
  • जब पापा ने बार-बार कहा – तो फिर वो हंसे और अंदर आए । 
  • मैं फौरन ऊपर अपने कमरे में चला गया । मम्मी उनके लिए कॉफी और चाय ले आई और पापा ने कहा – ये मेरी पत्नी है और वो जो खड़ा था वो मेरा बेटा है । 
  • उन्होनें कहा – घर तो आपने काफी अच्छा बनाया है । 
  • पापा ने कहा – जी बस, थोड़ा ऐसे ही । 

फिर पापा और माथुर अंकल बातों में लग गए और मम्मी उनकी आंटी के साथ बातें करने लगी ।

लेकिन अभी तक अंकल ने अपनी बेटी का नाम नहीं बताया था । मैं इसी इंतज़ार में था कि वो उसका नाम बताएं और मैं उसे फेसबुक और इंस्टाग्राम में देखूं क्योंकि सरनेम तो मुझे पता चल चुका था । थोड़ी बातचीत के

  • पापा ने कहा – ये बिटिया है आपकी । 
  • माथुर अंकल ने कहा – जी
  • पापा ने पूछा – बेटा क्या नाम है तुम्हारा और क्या करते हो ?
  • उसने कहा – प्रिया नाम है मेरा और मैं प्राइवेट जॉब करती हूं । 

बस मैनें फौरन उसे ढूंढना शुरु कर दिया और वो मुझे मिल गई ।

अपनी आईडी ओपन की हुई थी इसलिए मुझे आसानी से फोटो देखने और जानकारी लेने में दिक्कत नहीं हुई । फिर माथुर अंकल चले गए और कहा, हमें बहुत अच्छा लगा कि हमारे आप जैसे पड़ोसी हैं । कभी कोई मदद चाहिए होगी तो बताएंगे आपको ।

पापा ने हंसते हुए कहा – जी बिल्कुल, पड़ोसी किस दिन काम आएंगे । 

अब मैं चुपचाप बस इंतज़ार करने लगा । अगले दो महिनों में उनका मकान बनकर तैयार हो गया और वो यहाँ शिफ्ट हो गए । पहले से जानने के कारण उन्होंने हमें भी अपने हवन में बुलाया था लेकिन मैं नहीं गया मैं अपने ऊपर वाले घर पर ही बैठा रहा । अब मैं जानता था कि यहाँ तो कोई जॉब नहीं है, प्रिया भी गुड़गांव ही करती होगी, बस ये देखना था कि वो मेरी तरह घर आती-जाती रहती है या वहीं रहती है । अब मैं रोज़ सुबह छत पर आता तो मुझे प्रिया दिख ही जाती लेकिन हम एक दूसरे को इग्नोर ही करते लेकिन चोरी-छुपे नज़रों से देखते । (Padosan ki kari chudai)

जब कुछ दिनों तक यूं ही चलता रहा तो मैं उदास हो गया और मुझे लगा कि प्रिया को भी मुझमें कोई इंटरेस्ट नहीं है

लेकिन एक दिन जब मैं सुबह छत पर एक्सरसाइज़ कर रहा था तो मुझे फोन पर प्रिया की रिक्वेस्ट आई और वो छत पर भी आ गई । मैनें चोर नज़रों से पहले ही उसे देख लिया और इसलिए फोन की तरफ देखा ही नहीं और लगातार एक्सरसाइज़ करता रहा । क्योंकि मैं ये जान चूका था कि वो मेरी तरफ आकर्षित हो चुकी है लेकिन मुझे लगा कि वो मुझे नोटिस नहीं करती । आग दोनों तरफ बराबर लगी हुई थी और अब मौका था खेल में बाज़ी मारने का । थोड़ी देर बार जब मैं छत पर पसीना पोछने लगा तो प्रिया ने मुझे देखा और मैनें उसे और वो हंसी तो मैं भी हंस गया ।

मैनें फोरन हाथ हिला दिया और हाय कहा, उसने भी हाथ हिलाकर हाय करके इशारा दिया ।

आज वो बहुत सेक्सी लग रही थी । उसने चूचों पर टाइट पीली टीशर्ट पहनी हुई थी और नीचे काली लेगिंग्स, जिसमें उनकी टांगे और जांघों की पूरी शेप दिख रही थी । उसकी गांड पूरी तरह कसी हुई और नाभि गोरी थी । चूचे जैसे फटने को बाहर आ रहे थे । मैं उसे देख रहा था और वो मुझे । मैनें कमरे में जाकर उसकी फ्रैंड रिक्वेस्ट एक्सेप्ट कर ली ।

(Padosan ki kari chudai) अब हम दोनों के बीच बात करने की वजह भी थी और आकर्षण भी ।

प्रिया मेरे गठीले जिस्म पर फिदा हो चुकी थी और पिछले दो साल से वो सिंगल थी । दो साल से वो एक ऐसे लड़के की तलाश में थी जो उसकी तरह हो । एकदम प्यासा और आवारा । हम दोनों के बीच बातें होना शुरु हुई और बातें धीरे-धीरे जिस्म की आग को भड़काने लगी । उधर प्रिया अपनी चूत में उंगली देकर मेरे लंड की फोटो देख रही थी और इधर मैं उसके चूचे, चूत और गांड को देखकर हर रात लंड हिला रहा था । मैनें उससे कहा कि मुझे चूत को रगड़ती हुई वीडियो भेज । उसने मुझे अपनी गरमा गरम वीडियो भेजी जिसमे वो चूत में उंगली देकर मदहोश हो रही थी । मैनें दिन-रात उसे देखकर मुठ मारी ।

अब हम दोनों के बीच बातों का यह सिलसिला काफी हद तक आगे बढ़ चुका था

और अब प्रिय मेरे लंड की सवारी करना चाहती थी और मुझसे झटके खाने को वो बेताब थी । मैं भी उसकी चूत फाड़ने और उसकी चूत को गीला करने को बेताब हो चुका था और हमारे बीच में बस दिन तय होना था और वो मौका भी हमको मिल गया । प्रिया के मम्मी पापा एक शादी  में फरीदाबाद जाने वाले थे और वो अगले दिन आएंगे । प्रिया पूरी रात खाली थी, मैनें घरवालों से कहा कि मैं ऑफिस के काम से गुड़गांव जा रहा हूं लेकिन मैं प्रिया के घर घुस गया । (Padosan ki kari chudai)

मैनें नज़रें बचाकर प्रिया के घर के पीछे के रास्ते घर में घुसा ।

प्रिया मुझे पीछे वाले दरवाज़े में लेने आई थी, जैसे ही मैं अंदर घुसा उसने जल्दी से दरवाज़ा बंद कर दिया । मैं उसकी तरफ पलटा और उसे देखा तो मैं थोड़ा थम सा गया और उसे देखता ही रह गया । उसने टॉप और काले रंग की शॉर्ट्स पहनी हुई थी और वो गज़ब की माल लग रही थी । मैं बता नहीं सकता मेरे लंड  ने तभी से सिग्नल देने शुरू कर दिए थे लेकिन मैनें कंट्रोल किया और वो मेरी तरफ देख रही थी और उसने मुझे एक शरारत भरी स्माइल देते हुए कहा – अब चलो अंदर ।

वो मुझे अंदर अपने बैडरूम में ले गई और उसने मुझसे कहा कि वो मेरे लिए पानी लेकर आ रही है ।

जब मैं उसके कमरे में घुसा तो उसके रूम में फैली उसकी खुशबू ने मुझे पागल कर दिया । हर तरफ उसकी महक थी । मेरा सब्र टूट रहा था, वो गिलास में पानी लेकर आई । गिलास से पानी पीते-पीते मैनें प्रिया को देखा तो वो मेरे होठों को ऐसे देख रही थी जैसे उन्हें आज खा जाएगी । मैनें जैसी ही ग्लास मुंह से हटाया अचानक प्रिया ने मेरे चेहरे को पकड़ा और अपने गुलाबी और गरम होंठ मेरे होठों पर रख दिए और उन्हें चूसने लगी । और मेरे होटो पे बचा पानी पी गयी और मुझे सेक्सी बोल कर आँख मारी और बोली बैठो में आती हूँ…

10 मिनट बाद वो मुझे आवाज देती है. वो मुझे आवाज़ दे रही थी रोहित ज़रा इधर आना तो, मैं उसकी आवाज़ की तरफ जाने लगता हूं । मैनें देखा वो हॉल में सोफे पर बैठे  मेरा इंतज़ार कर रही है और उसने काले रंग की नाइटी पहनी हुई है । उसकी ब्रा और पैंटी मुझे साफ-साफ दिख रही थी । उसने अपनी उंगली से मुझे इशारा किया और कहा – इधर आओ ना….. (Padosan ki kari chudai)

मैं उसे देखकर मदहोश हो गया था और मेरे दिल की धड़कने तेज़ हो गई थी ।

मैं उसकी तरफ धीरे-धीरे बढ़  रहा था और अपने बस से बाहर हो गया और मैनें प्रिया की जांघें पकड़ ली । उसका गोरा बदन मुझे पागल कर रहा था । मैं उसके करीब था फिर मैं अपने घुटनों के बल पर खड़ा हो गया और उसे कमर से पकड़ लिया । मैनें उसे अपनी ओर खिंचा और उसने भी अपने दोनों हाथ मेरे गले पर रख दिए और वो धीरे-धीरे मेरी तरफ खीचें चले आने लगी । मेरे और उसके बदन के रौंगटे खड़े हो गए । मैनें उसे चूमा और सिसकियां भरते हुए उसने अपनी आंखें बंद कर ली ।

Padosan ki kari chudai
copyright to ullu

उसने अपने होंठों से मुझे अपनी ओर खींच लिया और मुझे चूमने लगी ।

अब पूरे कमरे में बस हमारी चूमने की आवाज़ आ रही थी । हम दोनों एक-दूसरे को चूमते-चूमते पागल हो गए थे और हम अपना आपा खो रहे थे । प्रिया तो मेरे होठों को छोड़ ही नहीं रही थी । मैं जैसे ही सांस लेने के लिए पीछे हटा वो मुझे गाल पर चूमने लगी । मान लो आज ही होठों का रस पीना है । उसे चूमते हुए मुझे काफी देर  हो चुकी थी लेकिन हम दोनों इतने प्यासे थे की न तो हमें वक्त की परवाह थी और न ही अब किसी तरह का कोई डर ।

प्रिया मुझे और मैं प्रिया के बदन को चाट रहे थे ।

तभी प्रिया ने हल्के से मेरे नीचे वाले होंठ पर काटा और सेक्सी स्माइल देकर बोली चलो अब बैडरूम में चलते हैं, अब रहा जा नहीं रहा । मैं घुटनों पर ही था उसने मुझे अपना हाथ दिया और मैं खड़ा हो गया । उसने मेरा हाथ पकड़ा और मुझे बैडरूम में ले जाने लगी । कमरे में घुसते ही उसने मुझे दीवार से चिपका दिया और मेरी कमीज़ के बटन खोलकर उसे उतारने लगी । मैं उसकी अदाओं पर इतना फिदा हो चुका था कि मुझे कुछ ध्यान नहीं रहा । मुझे पता ही नहीं चला कि उसने कब मेरी कमीज़ उतार दी । मैं ऊपर से पूरी तरह नंगा हो चुका था । प्रिया मेरा जिस्म देखर बेकाबू हो रही थी और अब वो अपने होठों को मेरे बदन पर फेरने लगी । मेरे कंधे और मेरे छाती पर वो चूमने लगी । (Padosan ki kari chudai)

जैसे ही उसने मेरी छाती के निप्पल पर अपनी जीब लगाई मैं दीवाना सा हो गया । (Padosan ki kari chudai)

Padosan ki kari chudai
copyright to ullu

ऐसा लगा करंट दौड़ गया हो । मैनें प्रिया को उठा लिया और उठाकर सीधा उसे उसके बिस्तर पर फेंक दिया । इससे वो और ज्यादा बेकाबू हो गई । उसने अपने दांतों से अपने नीचे वाले होंठ को काटा और सेक्सी आवाज़ में बोली – आजा रोहित…मेरी प्यास बुझा दो ।

मैं प्रिया के ऊपर आया और उसकी गर्दन पर चूमना शुरू कर दिया और  चूमते-चूमते मैं अपनी जीब उसकी गर्दन पर फेरने लगा । प्रिया मदहोश हुई और मेरी जींस के ऊपर से मेरे लंड को पकड़ने लगी और उसका एहसास लेने लगी । अब मैं धीरे-धीरे गर्दन से नीचे की ओर बढ़ने लगा और प्रिया को चूमता-चूमता प्रिया के कपड़े उतार दिए और फिर वो ब्रा और पैंटी में आ गई । लाल रंग की पैंटी और काले रंग की ब्रा उसके गोरे जिस्म में कमाल लग रही थी ।  (Padosan ki kari chudai)

मैनें प्रिया की ब्रा के ऊपर से उसके चूचों को दबाया तो वो तड़पने लगी और गहरी सांसे भरने लगी ।

Padosan ki kari chudai
copyright to ullu

मैनें उंगली से उसकी ब्रा को साइड किया और उसके चूचों को बाहर निकाल दिया । उसके निप्पल एकदम गुलाबी थे । मैं खुद को रोक नहीं पाया और मैनें जैसे ही उसके चूचों को अपने मुंह में लिया प्रिया की आह……आह…….आ…..निकलने लगी । रोहित ….औ….ओ…..अई……रोहित……आ…..आह……। वो गरम आहें भर रही थी । प्रिया ने मेरे सिर को पकड़ लिया और मैं भी उसके चूचों को चूसने लगा और अपनी जीब उसके निप्पल पर घुमाने लगा ।

प्रिया कांपने लगी और बोली – रोहित मेरी प्यास बुझा दो आज, कब से तरस रही हूं ।

मेरे चूचों को किसी ने इतना गरहाई से नहीं चूसा । मैं प्रिया के दोनों चूचों को बाहर निकालकर उन्हें जबरदस्त तरीके से चूसने लगा । प्रिया ने मेरा सिर ज़ोर से पकड़ा हुआ था ।

वो बीच-बीच में मेरा लंड चूसती रहती थी और मैं उसके चूचों को चूस रहा था । प्रिया अब कंट्रोल से बाहर हो गई और उसने मुझे कहा – लेट जाओ प्लीज़ और उसने मुझे लेटा दिया । वो मेरे ऊपर आकर मेरी जींस खोलने लगी, मैनें उसकी मदद की और जींस फ्लोर पर फैंक दी । उसने मेरे अंडरवेयर को नीचे किया । वो मेरे लंड को जीतनी बार देख रही थी वो दीवानी हो रही थी । उसने मेरे लंड का साइज़ पूछा ृ मैनें बोला 8 इंच । तो वो बोली इतना बड़ा लंड है तुम्हारा । मेरी तो चूत ही फाड़ दोगे तुम आज । आओ फाड़ दो चूत मेरी ।  (Padosan ki kari chudai)

प्रिया मेरे लंड को चाटने लगी ।

उसने मेरे लंड पर अपनी जीब लगाई और नीचे से लंड को चाटते हुए मेरे टोपे पर अपनी जीब रख दी । मेरा लंड बहुत टाइट हो चुका था मैनें प्रिया को देखा तो वो बहुत सैक्सी लग रही थी । वो जब भी मेरा लंड अपने मुह में ले रही थी और खेल रही थी । कभी वो लंड को चूमती, कभी मुंह में लती और कभी चाट रही थी ।

अब मेरी बारी थी कि मैं प्रिया को खुश करूं और उसकी तड़पन और आग को बढ़ाऊं ।

मैनें प्रिया को लेटा दिया और नीचे उसकी टांगों पर चला गया और वहां से चूमता-चूमता ऊपर की ओर आने लगा । पैरों से चूमते हुए जांघों तक पहुंचा और उसकी गोरी जांघों को मैनें दांतों से काटा तो प्रिया बोली – नहीं रोहित, निशान पड़ जाएगा, प्लीज़ ऐसा मत करो । लेकिन मैं कहां रूकने वाला था । मैं लगातार काट रहा था और धीरे-धीरे ऊपर की ओर बढ़ा । प्रिया की चूत की खुशबू ने मुझे पागल कर दिया ।

copyrights to ullu

मैने उसकी टांगे पूरी फैला दी और होठों से उसकी पैंटी के ऊपर से उसकी चूत को चूमने लगा ।

जैसे ही मैं चूमने लगा मैनें प्रिया को ओर देखा – वो पागल होकर तड़प रही थी और हिल रही थी । जैसे ही मैनें चूत को चूमा पैंटी के ऊपर से उसने मेरे बालों को पकड़ लिया और पैंटी खोलकर मेरा लंड अपनी चूत में डाल दिया और बोली – झटके दो, मुझे जोर-जोर से प्लीज़ । मैनें जैसी ही पहला झटका दिया, प्रिया की आवाज़ आई – आह….आह…आ….अई…..आ……। मैनें उसकी पूरी पैंटी उतार दी और उसकी चूत से लंड बाहर निकाला ।

प्रिया तडप उठी , क्या हुआ रोहित, चोदो न । मैनें अभी तक प्रिया जैसी चूत नहीं देखी थी । इतनी गुलाबी चूत देखकर मैं दिवाना हो रहा था । मैनें अपनी जीब  उसकी चूत पर रख दी और चाटते चाटते जब मेरी जीब हल्की सी उसकी चूत के अंदर गई तो उसकी चूत से हल्का पानी आ रहा था और उसकी चूत गरमी से तप रही थी । मैं फटाफट अपनी जीब उसकी चूत पर फेरने लगा और अंदर-बाहर करने लगा ।

प्रिया ने मेरा सिर पकड़ लिया और बोली– आह…रोहित,,,आह…बस करो…रोहित….मत करो ये……

आह..क्यों कर रहे हो….मैं पागल हो रही हूं ….आह…….। प्लीज़ जानू लंड को मेरी चूत के अंदर डाल दो जल्दी । मेरी चूत तड़प रही है । इस आग को और न भड़काओ, चूत मारलो मेरी प्लीज़ । मैनें कहा – चूत की आग तो तेरी आज मिटा कर ही जाऊंगा लेकिन पहले मुझे चूत का स्वाद तो लेने दे । 

  • प्रिया बोली – मैं कुछ नहीं जानती…आह…मुझे बस….आह….तेरे लंड की चोट चाहिए । मुझसे अब कंट्रोल नहीं हो रहा ।
  • मैनें कहा – बहुत दर्द होगा 
  • प्रिया बोली – मेरे लिए वो दर्द इस प्यास से बेहतर है ।
  • ऐसे झटके दो,,,कि चूत से बेहिसाब पानी निकले । प्लीज़ जल्दी करो । 
  • मैनें प्रिया को देखा तो मुझसे रहा नहीं गया और जोश चड़ गया और मैनें अपना लंड उसकी चूत पर रख दिया ।
  • मैनें प्रिया को उसके कंधों से पकड़ा और अपना सुलगता लंड उसकी चूत में डाल दिया ।

प्रिया की आंखें बंद हो गईं और वो मुझे देखने लगी ।

प्रिया तेज़-तेज़ सांस ले रही थी तभी मैनें हल्का सा झटका दिया और वो झटके के साथ मूझे मासूम आंखों से देखने लगी । फिर मैं नहीं रूका, मैनें उसे झटके देने शुरू किए और तेज़, और तेज़ ……प्रिया बोली

आह………..माँ……………..मम्मी…….आहय……..आह……………..मर गई………………रोहित प्लीज़ बाहर निकालो इसे, बहुत दर्द  हो रहा है । लेकिन मैं झटके मारता रहा और मैनें उसके होंठों को अपने होंठों से दबा दिया ।

प्रिया के आंसू निकल रहे थे ।

प्रिया मुझे फिर किस करने लगी और मेरी चेहरे से पकड़ कर किस करना चालू कर दिया मैने झटके थोड़े से तेज़ कर दिए और अब प्रिया की चुत गिल्ली हो गयी पूरी तरह से अब उसे मज़े आने लगा दर्द तो हो ही रहा था लेकिन मीठा दर्द किसे नहीं पसंद आता दोस्त अब मैंने उसकी चुदाई पूरे तरीके से स्टार्ट कर दी और झटके जोर जोर से मारने लगा और प्रिया लंड को जाता देख अपने अन्दर और मदहोश हो रही थी करीबन 10 मिनट हो गये थे.

हम लंड और चुत का खेल और तेज़ कर दिया.

क्योंकी प्रिया का पानी निकल ने वाला था और मै चाहता था मै उसकी साथ अपना पानी निकालू अब प्रिया ने अपनी टांग और छोड़ी करदी और मै उसकी टैंगो पे  हाथ रख कर चोद रहा था और वो मेरे कमर को कस के पकड़ रही थी और मेरे बदन को नोच भी रही थी मैंने हम दोनों की चुदाई की आवाज टप तप टप पूरे कमरे में गूंज रही थी और दोनों एक दूसरे को देख आआआह्ह्ह्हह्ह  की आवाज निकल रही थी तभी मैंने जोरदार छटका अचानक से प्रिया की चुत पे मारा तो चीला पढ़ी दर्द से और आराम से कुत्ते.

मै और तेज़ी से करने लगा और

प्रिया का पानी जैसे ही निकल ने को हुआ तो वो पागलो की तरह निचे से जटके मरना शुरू कर दिया  और मुझे मेरे कंदो से पकड़ लिया और बोलने लगी मेरा निकल ने वाला आआआह्ह्ह्हह्ह  माँ…… आआआहहहहहहह रोहित चोद मुझे चोद ऐसे ही चोद और बोली अब से हम मिलेंगे और चुदाई करेंगे मै दीवानी हो गयी हूँ रोहित तेरी आआआअह्हह्ह्ह्हह  मेरा निकल ने वाला है बस निकल गया ऐसे बोलते बोलते प्रिया ने मुझे अपने ऊपर गिरा लिया और वो पानी निकलते हुए मदहोश हो गयी तभी मैंने भी उसी टाइम अपना पानी निकला और प्रिया को किस करने लगा

मैंने बोला प्रिया तू बहुत सेक्सी है 

Padosan ki kari chudai
copyrights to ullu

मै भी जोश में चोदा और मेरा भी माल छड़ गया और मेरी आंखे बंद कर बेइंतहा प्रिया को किस करने लगा और 2 मिनट तक हम इसी तरह नंगे बंदन एक दूसरे से चिप के रहे और किस करते रहे फिर हम दोनों अपने आप को साफ़ किया और हम थोड़ी देर युही लेटे रहे हम पे पूरी रात थी हमने उसके बाद डिनर भी बनाया और उस रात हमने 5-6 बार सेक्स किया और आज भी हम मिलते है और सेक्स करते… और हमने दिल्ली से लेके गुडगाँव तक ऐसा कोई oyo room नहीं है जो हमने छोड़ा हो 

यह भी जरूर पढ़े और कमेंट करना ना भूले :- Dost ki girlfriend chodi