Puroosh Samasyaon Ka Ayurvedic Ilaaj

1
Puroosh Samasyaon Ka Ayurvedic Ilaaj
Puroosh Samasyaon Ka Ayurvedic Ilaaj

Puroosh Samasyaon Ka Ayurvedic Ilaaj पुरूष समस्याओं का आयुर्वेदिक इलाज दोस्तों, आजकल का खान-पान, रहन-सहन और जीवन इतना अनहेल्दी और थका देने वाला है कि इंसान 30 साल के बाद बिल्कुल ढीला पड़ने लगता है । उसकी शारीरिक उर्जा कमज़ोर होने लगती है और वो अपना शादीशुदा जीवन पूरे आनंद के साथ नहीं ले पाता । इसके कईं नतीजे निकलते हैं, जैसे – पति – पत्नी के बीच रिश्ते ठीक नहीं रहते, पत्नी तनाव में रहती है,

Puroosh Samasyaon Ka Ayurvedic Ilaaj पुरूष थका और कमज़ोर महसूस करता है और फिर मानसिक तनाव भी बढ़ जाता है जिससे उसे रोग घेरने लगते हैं ।

ऐसे में वो महंगी और हैवी दवाईयां लेता है जो उसे और नुकसान पहुंचाती हैं और उसके शरीर के अंदरूनी अंगों को खराब करती हैं । ऐसे में सिर्फ आयुर्वेद ही है जो उसे इस नीरस और थका देने वाले जीवन से बाहर निकाल सकता है और उसे एक ऊर्जावान, स्वस्थ और आनंदमय जीवन दे सकता है ।

इस लेख में हम पुरूषों की कुछ गुप्त समस्याओं और उसके आयुर्वेदिक उपचार के बारे में आपको बताएंगे ।

क्या है पुरुषों में थकावट और कमज़ोरी का कारण ?

  • खान-पान का ठीक न होना
  • ज़्यादा तनाव लेना
  • सिगरेट, शराब और नशीली चीजों का इस्तेमाल
  • नींद पूरी न लेना
  • डिप्रेशन या अधिक सोचना

पुरुषों में कमज़ोरी के लक्षण क्या हैं ?

  • संभोग में मन न लगना
  • लगातार थकावट बने रहना
  • ऊर्जा न होना – कम हंसना
  • कम मुस्कुराना या खुश रहना
  • शुक्राणु का कम बनना या हल्का होना
  • शीघ्रपतन हो जाना

ये कुछ ऐसे लक्षण हैं जो आज पुरुषों में शादी के बाद अक्सर देखे जाते हैं और इन्हीं के चलते उनकी शादीशुदा जिंदगी से आनंद चला जाता है और तनाव बना रहता है ।

चलिए जानते हैं, इसे आयुर्वेदिक तरीके से कैसे दूर करें –

ये है आयुर्वेदिक उपचार

1. मिक्चर बनाएँ – अश्वगंधा, शतावरी, सफेद मुसली, कौच बीज, आँवला के पाउडर का एक मिक्चर बनाएँ और इस मिक्चर का रोज़ रात को सोने से पहले गुनगुने दूध के साथ सेवन करें । आपको एक महीने में ही चमत्कारी नतीजे दिखने लगेंगे ।
2. शीघ्रपतन – ये समस्या आज लगभग हर उस पुरूष को है जो किसी न किसी तरह की गुप्त समस्या से पीड़ित है । वीर्य का जल्दी बाहर निकल जाना या निकलते ही रहना कईं पुरूषों की सालों की परेशानी बन चुकी है और डॉक्टर को दिखाने के बाद भी कोई नतीजा नही निकला है । लेकिन आयुर्वेद में इसका पक्का इलाज है । सबसे पहले तो चाय, कॉफी और मसालेदार चीजों का सेवन नहीं करना है । जिन पुरूषों के शरीर में ऊर्जा ज़्यादा होती है, गर्माहट ज़्यादा होती है, उन्हें ये समस्या काफी होती है । आयुर्वेद कहता है कि ऐसे लोगों को दही, पुदिना और ठंडी तासीर वाली चीजों का सेवन करना चाहिए । पुरूषों को सुबह और शाम भोजन के आधे घंटे बाद उशीरासव 20 मिलीलीटर पीनी है । इसके अलावा चंद्रप्रभा वटी की दो गोलियाँ भोजन के आधे घंटे बाद लेनी है । उशीरसव और चंद्रप्रभा वटी आपको पतंजलि, दिव्य और बैद्यनाथ के रूप में किसी भी मेडिकल स्टोर पर मिल जाएगी ।
3. काम उत्तेजना में कमी – हर तरह के पुरूष की काम उत्तेजना या इच्छा एक जैसी नहीं होती है । काम उत्तेजना की कमी के प्रमुख कारण – खान-पान का ठीक न रहना, नींद पूरी न होना और शराब या दूसरी नशीली चीज़ें करना होता है । ये काम उत्तेजना को दबाकर बंद कर देती हैं । पुरूष इस विषय पर कभी खुलकर बात नहीं कर पाते लेकिन ये बात सच है कि जिस पुरूष की काम उत्तेजना कम होती है, उसकी पत्नी के साथ उसके रिश्ते अच्छे कभी नहीं होते । ऐसी स्थिति में भी इलाज उपलब्ध है । रोज़ सुबह और शाम खाली पेट ब्राह्ममी चूर्ण को गुनगुने दूध के साथ लें और त्रिफला को भी गुनगुने दूध के साथ लेते रहें ।
4. वीर्य का गाढ़ा और ज़्यादा बनना – दोस्तों अगर आप चाहते हैं कि आपका वीर्य यानि स्पर्म गाढ़ा और ज़्यादा बने तो तनाव लेना बिल्कुल छोड़ दें और एकदम फ्री माइंड से काम करें । इसके अलावा रात को खजूर खाएँ और दूध पीएं । साथ में दिनभर हरी सब्जियाँ, दालें, अंडा और कभी-कभी मछली भी खाएँ । ये भोजन आपके वीर्य को गाढ़ा भी करेगा और पहले से ज़्यादा भी देगा ।
तो दोस्तों, आपको लेख कैसा लगा, हमें ज़रूर बताएं, ताकि हम और बेहतर विषयों को सामने लेकर आएँ ।

1 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें