Sex Story In Hindi सगाई में शरारत

सगाई में शरारत (sex story in hindi)

सगाई में शरारत (sex story in hindi) दोस्त का फोन आया – भाई मेरी शादी तय हो गई है, कल ही सगाई है और तूने पक्का आना है वरना मैं बूरा मान जाऊंगा ।

मैं चौका और कहा – शादी तय हो गई और कल सगाई है और दोस्त को अभी बता रहा है । उसने कहा – यार सबकुछ इतना जल्दी-जल्दी हुआ कि टाइम ही नहीं मिला ।

मैनें बधाई दी और आने का वादा किया । सुबह नाई के पास गया, बाल-वाल कटवाए, दाढ़ी बनवाई, फेशियल करवाया और

तैयार हो गया । दोस्त ने जल्दी आने का वादा किया था सो देर नहीं कर सकता था ।

टाइम से घर से निकल गया । दोस्त के घर पहुंचकर उसके साथ बैठा ।

ये बात कुछ हद तक गलत भी है लेकिन जब हवस (horny) की आग बदन में दौड़ रही हो तो वो छुपाए नहीं छुपते । मैं दोस्त के कमरे में बैठकर उसे तैयार कर रहा था ।

हम उसके लिए कुर्ता सलेक्ट कर रहे थे और साथ ही साथ हंसी-मज़ाक भी चल रहा था । तभी दरवाज़े पर खट-खट हुई । दोस्त कुर्ता बदल रहा था सो मैनें कहा – तू रूक, मैं खोलता हूं ।

सगाई में शरारत (sex story in hindi)
Copyright to ullu

मैनें जैसे ही दरवाज़ा खोला सामने गुलाबी सूट में भाभी नज़र आई । मेरी आंखें भाभी से टकराई और भाभी की मुझसे । मैं उनकी आँखें देख रहा था, क्योंकि उनमें बहुत शरारत भरी हुई थी । भाभी मुझे ऐसी निगाहों से देख रही थी जैसे लंबे वक्त से प्यासी हों ।

sex story in hindi वो अंदर आ गईं और मेरे दोस्त को छेड़ने लगीं । भाभी मेरे दोस्त और अपने असली देवर से मज़ाक कर रही थी लेकिन बीच-बीच में मुझे चोर नज़रों से देखी जा रही थी ।

मैं ऐसा नहीं करना चाहता था लेकिन पता नहीं उस पल मुझे क्या हो गया, मैं भाभी के चेहरे से नज़रे नहीं हटा पा रहा था । भाभी की आवाज़ और उनकी आँखें बार-बार मेरी आंखों से टकरा रही थी और न चाहते हुए भी मैं भाभी के होंठ और फिगर को देखने को मजबूर हो गया ।

थोड़ी देर में भाभी वहां से चली गई ।

हम बैठकर बात कर रहे थे कि दोस्त के छोटे भाई ने कहा कि लड़की वाले आ गए हैं नीचे आ जाओं जल्दी । हम नीचे गए और सगाई की रस्म शुरु हो गई ।

सबकुछ ठीक चल रहा था लेकिन मैं हैरान था कि मेरी नज़रें बार-बार भाभी को ही ढूंढ रही थी और भाभी भी मुझे मेहमानों के बीच चोर नज़रों से देख रही थी ।

भाभी की नज़रो ने बहुत कुछ कह दिया था और मुझसे भी रहा नहीं जा रहा था क्योंकि ऐसी नज़रें बहुत कम देखने को मिलती हैं । सब लोग नीचे बैठे हुए थे और मैं बाथरुम के बहान से ऊपर चला गया, थोड़ी ही देर में भाभी भी वहां आ गई ।

मैं समझ गया भाभी भी बराबर मुझपर ही ध्यान दे रही थी और मुझसे ज्यादा वो इस पल के लिए उतावली थी । मैनें फौरन बाथरुम का दरवाज़ा बंद किया और भाभी को कमर से अपनी ओर खींच लिया और उनके होठों पर अपने होठ रगड़ने शुरु कर दिए ।

भाभी के लाल-लाल होठ जब मेरे होठों से रगड़ रहे थे तो मानो वो चोदने से भी ज्यादा मज़ा दे रहे थे । भाभी की दोस्त के भैया के साथ लव मैरिज हुई थी लेकिन न जाने उन्होंने मुझमें क्या देखा कि वो उतावली हो गई थी ।

सगाई में शरारत (sex story in hindi)
Copy right to owner

मुझसे ज्यादा उतावली वो थीं और उनका उतावलापन इस हद का था कि उन्होंन मेरे पजामे में हाथ डालकर मेरा लंड पकड़ लिया और उसे हिलाने लगी । लंड पर मुठ मारना भाभी के लिए मुश्किल था लेकिन वो चाहती थी कि मैं आज उनकी चुत गीली कर ही दूं।

लेकिन मैं अभी सिर्फ भाभी के होठों का रस ले रहा था । भाभी के होठों को रगड़कर मेरे होठ लाल हो गए थे और अब चाहे मैं भाभी को न चोदता लेकिन मैं चाहता था कि वो मेरा लंड चूसे और अब मैं किसी भी कीमत पर उन्हें लंड चूसवाकर ही दम लेने वाला था ।

मैनें फौरन पजामा खोल दिया और मैं भाभी के मुंह के सामने लंड खोलकर रख दिया ।

भाभी लंड को ऐसे चाटने लगी जैसे वो इसी इंतजार में थी, लेकिन मझे जल्द से जल्द अब भाभी के मुंह में झाड़ना था इसलिए मैनें भाभी के सर के पीछे से भाभी को पकड़ा और भाभी के मुंह में लंड देकर ब्लोजॉब लेना शुरु कर दिया । sex story in hindi

भाभी इतना अच्छी तरह से मुंह में ले रही थी कि मुझे कुछ पल के लिए तो कुछ भी याद नहीं रहा और मैं मदहोश सा हो गया ।

थोड़ी देर में जब मुझे लगा कि झड़ने वाला है मैनें लंड बाहर निकाल दिया और पच…..पच….पच भाभी के मुंह में झाड़ दिया ।

इतनी देर में भाभी ने सूट ढीला किया और मेरे मुंह को अपने चूचों में घूसेड़ दिया ।

सगाई में शरारत (sex story in hindi)
Copyright to ullu
भाभी शांत नहीं हुई थी, भाभी ने कहा – चूचे चूस लो प्लीज़……

मेरा पानी चूचे चूसने और दबाने से ही आता है । मैनें भाभी के चूचे देखे जो पूरी तरह गोल और दबदबे थे, मैनें निप्पल को जीब से चाटना शुरु कर दिया ।

भाभी पागल हो रही थी और चूत में ऊंगली कर रही थी, मैनें भाभी के निप्पल को काटना और चूसना जारी रखा । भाभी पैंटी के बाहर से चूत को गीला करने में लगी हुई थी और थोड़ी ही देर में चूत पूरी तरह गीली हो गई और उसमें पानी आने लगा ।

भाभी का मानो नया जनम हुआ हो । भाभी खुद को बहुत फ्री महसूस कर रही थी और मेरे लिए भाभी ने अपने सारे रास्ते खोल दिये थे ।

Also Read : नौकरी और शालिनि मैडम ( Office sex stories )